Home प्रदेश उत्तर प्रदेश अयोध्या में आज मनेगी दिवाली, 3.35 लाख दीये की रोशनी में नहाएगी...

अयोध्या में आज मनेगी दिवाली, 3.35 लाख दीये की रोशनी में नहाएगी राम की नगरी

32
0
SHARE

अयोध्या: उत्तर प्रदेश के अयोध्या में मंगलवार (6 नवंबर) को भव्य दिवाली समारोह का आयोजन किया जाएगा. सरयू नदी के दोनों तट पर 3.35 लाख दीये जलाकर पूरी अयोध्या को जगमग किया जाएगा. इस आयोजन में हिस्सा दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला किम जुंग-सूक मुख्य अतिथि होंगी. उनके स्वागत के लिए शहर को खूब सजाया गया है और सड़कें एवं धरोहर इमारतें रोशनी से नहाई हुई हैं. सरयू नदी के घाट पर भगवान राम और भगवान हनुमान की मूर्ति लगाई गई है जबकि मुख्य कार्यक्रम के आयोजन स्थल के पास भव्य तोरण द्वार बनाया गया है. मालूम हो कि अयोध्या में हिंदूओं के अराध्य भगवान राम का जन्मस्थान माना जाता है.

गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज कराया जाएगा आयोजन
नदी के घाट के पास के मंदिरों को रंग-बिरंगी रोशनियों से सजाया गया है और घाट की सीढ़ियों पर लाखों दीये लगाए गए हैं. दिवाली समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर शिरकत करने वालीं किम के स्वागत में मंगलवार को दीये जलाए जाएंगे. इतने अधिक दीयों को जलाने का एक मकसद इसे गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज कराना भी है.

कॉलेज छात्र भी लेंगे हिस्सा
अयोध्या की मुख्य सड़कें जगमग करती रोशनियों से नहाई हुई हैं. कार्यक्रम के लिए कई इमारतों को रोशनी से सजाया गया है. कार्यक्रम आयोजित कर रही टीम के एक सदस्य ने कहा, ‘नदी के दोनों तटों पर कल करीब 3.35 लाख दीये जलाने की योजना है. अवध विश्वविद्यालय के विभिन्न कॉलेजों के छात्र और अन्य लोग इन दीयों को जलाने आए हैं.’ उन्होंने कहा, ‘विश्वविद्यालय के कई छात्र नदी के तटों पर रामायण थीम पर रंगारंग रंगोलियां भी तैयार कर रहे हैं.’

किम चार दिन की यात्रा पर रविवार को भारत पहुंचीं. सोमवार को उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की जबकि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने किम से मुलाकात की. दिल्ली से रवाना होने के बाद किम लखनऊ पहुंचीं, जहां मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनका स्वागत किया. मंगलवार को किम ‘चिकनकारी’ करने वाले कारीगरों से मुलाकात करेंगी और फिर अयोध्या में स्मारक के भूमि पूजन समारोह एवं दीपोत्सव में शामिल होंगी.

मथुरा में दीपावली को लेकर श्रीकृष्ण जन्मस्थान की सुरक्षा बढ़ाई गई
उधर उत्तर प्रदेश के तीन अतिसंवेदनशील धर्मस्थलों में से एक मथुरा के श्रीकृष्ण जन्मस्थान सहित अन्य भीड़-भाड़ वाले मंदिरों तथा तेलशोधक कारखाने की सुरक्षा व्यवस्था को और अधिक चौकस बना दिया गया है. विशेष तौर पर श्रीकृष्ण जन्मस्थान एवं उसके आसपास के दायरे में आने वाले सभी सार्वजनिक स्थलों पर बम निरोधक दस्ते और खुफिया तंत्र को पूरी तरह से सतर्क कर दिया गया है.

वैसे भी, हरियाणा तथा राजस्थान की सीमाएं लगी होने के कारण मथुरा जनपद अपराध की दृष्टि से भी अति संवेदनशील जनपदों की श्रेणी में आता है. इसलिए राजमार्ग, एक्सप्रेस-वे तथा जनपद में प्रवेश के सभी मार्गों पर सघन जांच की जा रही है.

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बबलू कुमार ने बताया, ‘दीपावली पर्व पर श्रीकृष्ण जन्मस्थान और ठाकुर द्वारिकाधीश मंदिर सहित वृन्दावन के ठाकुर बांकेबिहारी, इस्कॉन, प्रेम मंदिर आदि भीड़ वाले स्थानों की चौकसी बढ़ा दी गई है. श्रीकृष्ण जन्मस्थान के यलो जोन में बम डिटेक्शन एण्ड डिस्पोजल टीम (बीडीडीएस) को तैनात कर दिया गया है.’

उन्होंने बताया, ‘इस क्षेत्र में संदिग्ध वाहनों की सघन जांच के अलावा होटल, गेस्टहाउस, धर्मशालाओं में अज्ञात एवं संदिग्ध लोगों के बारे में जानकारी की जा रही है. जनपद में प्रवेश करने वाले वाहनों की भी जांच की जा रही है. होटलों, धर्मशालाओं आदि के रजिस्टर चेक कर ठहरने वालों की संख्या, आईडी प्रूफ आदि की जानकारी ली जा रही है.’

एसएसपी ने बताया, ‘चूंकि अब गोवर्धन और बरसाना आदि तीर्थस्थलों पर भी देश-विदेश से पहुंचने वाले श्रद्धालुओं की संख्या में बेतहाशा वृद्धि हो गई है इसलिए वहां भी सुरक्षा तंत्र को सतर्क रहने के निर्देश दिए गए हैं.’

उन्होंने बताया, ‘हालांकि, मथुरा के तेलशोधक कारखाने की सुरक्षा की संपूर्ण जिम्मेदारी केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल की है परंतु, जिला स्तर पर उसे भी पुलिस के साथ तालमेल बनाकर रहना होता है. इसीलिए, वहां भी दीपोत्सव पर्व पर सतर्कता बरतने और सघन निगरानी रखने को कहा गया है.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here