Home दुनिया चर्चा में आई एक ‘मां’, खुद शेयर की अपनी डिलीवरी की लाइव...

चर्चा में आई एक ‘मां’, खुद शेयर की अपनी डिलीवरी की लाइव तस्वीरें

64
0
SHARE

ऑस्ट्रेलिया में रहने वाली एक मां ने अपने बच्चे को जन्म देने के लिए जो किया, उसे जानकर आप भी सलाम करेंगे. दरअसल ऑस्ट्रेलिया की महिला ने बच्ची को जन्म देने के लिए अपने हाथ से ही सीजेरियन डिलीवरी करने का फैसला किया. 36 साल की कार्ले वालिकुआला से जब डॉक्टरों ने नॉर्मल डिलिवरी के लिए मना कर दिया तो उन्होंने अलग तरह से मां बनने का फैसला किया. उनके इस फैसले पर आप भी आश्चर्य करेंगे. पेशे से नर्स कार्ले वालिकुआला को डॉक्टरों ने बताया कि नॉर्मल डिलिवरी उनकी सेहत के लिए ठीक नहीं रहेगी.

मेडिकल बुलेटिन में जारी की गई तस्वीरें
इसके बाद कार्ले का उत्साह कम नहीं हुआ और उन्होंने डॉक्टरों की देखरेख में अपनी बेटी को अपने हाथों से नए तरह की सीजेरियन डिलीवरी के जरिये जन्म दिया. इस डिलीवरी को सीजेरियर सेक्शन (casearean section) नाम दिया गया. ऑस्ट्रेलिया के एक मेडिकल बुलेटिन में इस घटना की तस्वीरें जारी की गई हैं. डिलीवरी के दौरान होने वाला भयानक दर्द से कार्ले घबराई नहीं और उन्होंने पूरी हिम्मत से बच्ची को गर्भाश्य से बाहर निकालने का काम किया.

डिलीवरी में साथ रही डॉक्टरों की टीम
इस दौरान कार्ले के साथ डॉक्टरों की टीम थी. इस दौरान गर्भाशय के निचले हिस्से से जब बच्ची निकल रही थी तो उन्होंने उसे अपने हाथों से शरीर के बाहर निकाला. जो काबिलेतारीफ है. इस तरह की डिलीवरी को मां की मदद से की जाने वाली सीजेरियन डिलिवरी कहा जाता है. डिलीवरी के अनुभव को याद करते हुए कार्ले कहती हैं, मैं पहले भी दो बेटों को जन्म दे चुकी हूं, लेकिन बेटी को जन्म देने के दौरान मेरा एकदम अलग अनुभव रहा. इसे मैा शब्दों में बयां नहीं कर सकती.

उन्होंने कहा मुझे इस तरह की सीजेरियन तकनीक में कोई परेशानी नहीं हुई. लेकिन मैं कभी नहीं चाहती कि मेरे बच्चों का जन्म इस तरह से हो. मैं बच्चे का पहला स्पर्श अपने हाथों से करना चाहती थी. मेरी यह इच्छा पूरी हुई इस कारण मैं काफी खुश हूं. चिकित्सा विज्ञान में मां के हाथों बच्चे के निकलने की प्रक्रिया को भी सीजेरियन ही माना जाता है.

डिलीवरी की इस प्रक्रिया में काफी दर्द होता है. इस कारण यह प्रक्रिया अभी ज्यादा देशों में प्रचलित नहीं है. भयानक दर्द के कारण अधिकतर महिलाएं इसे अपनाने से बचती हैं. कार्ले ने यह भी बताया कि डिलिवरी से पहले मैंने काफी पढ़ा था, जिससे मुझे काफी हिम्मत मिली.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here