Home खेल बॉल टेम्परिंग मामले में हरभजन ने कसा तंज, ‘वाह ICC, वाह!’

बॉल टेम्परिंग मामले में हरभजन ने कसा तंज, ‘वाह ICC, वाह!’

80
0
SHARE

भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह ने ऑस्ट्रेलिया के सलामी बल्लेबाज कैमरन बेनक्रोफ्ट पर मैच फीस का सिर्फ 75 प्रतिशत जुर्माना और प्रतिबंध नहीं लगाने के आईसीसी के फैसले की निंदा की. हरभजन ने 2001 के दक्षिण अफ्रीका टेस्ट का जिक्र किया जब पांच भारतीयों सचिन तेंदुलकर, वीरेंद्र सहवाग, सौरव गांगुली, शिवसुंदर दास, दीपदास गुप्ता और उन पर मैच रैफरी माइक डेनिस ने विभिन्न अपराधों में कम से कम एक टेस्ट का प्रतिबंध लगाया था.

उन्होंने 2008 के सिडनी टेस्ट का भी हवाला दिया जब एंड्रयू साइमंडस के खिलाफ कथित नस्लीय टिप्पणी के कारण उन पर तीन टेस्ट का प्रतिबंध लगाया गया था.हरभजन ने ट्वीट किया ,‘‘वाह आईसीसी वाह. फेयरप्ले. बेनक्रोफ्ट पर कोई प्रतिबंध नहीं जबकि सारे सबूत थे. वहीं 2001 में दक्षिण अफ्रीका में जोरदार अपील करने के कारण हम छह पर प्रतिबंध लगा दिया गया था और वह भी बिना सबूत के. और सिडनी 2008 तो याद होगा. दोषी साबित नहीं होने पर भी तीन टेस्ट का प्रतिबंध. अलग अलग लोग अलग अलग नियम.’’

दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन हुई बॉल टैंपरिंग की घटना के बाद मचे बवंडर में अब आईसीसी ने अपना फैसला सुनाया था. इस कृत्य को अंजाम देने वाले ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज केमरन बेनक्रॉफ्ट और टीम के कप्तान स्टीव स्मिथ की सजा का ऐलान किया था. इस घटना में स्टीव स्मिथ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपनी गलती पहले ही मान ली थी. मैच के चौथे दिन स्मिथ ने टीम की कप्तानी छोड़ दी.

गौरतलब है कि इस घटना ने पूरे क्रिकेट जगत में हलचल मचा दी है. चारों तरफ ऑस्ट्रेलिया टीम की जमकर आलोचना की जा रही है. यहां तक कि ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री तक इस घटना की निंदा की है.

बिशन सिंह बेदी ने भी की कड़ी आलोचना
भारत के पूर्व कप्तान बिशन सिंह बेदी ने आस्ट्रेलिया के शीर्ष क्रिकेटरों से जुड़े गेंद से छेड़खानी विवाद को आधुनिक क्रिकेट की बड़ी त्रासदियों में से एक बताते हुए खिलाड़ियों को खेल को संकट में डालने के लिये कसूरवार ठहराया. बेदी ने कहा, ‘इसमें कोई शक नहीं कि गलती हुई है और इसके लिये खिलाड़ी जिम्मेदार हैं. कप्तान ने इसे स्वीकार कर लिया है और शीर्ष प्रबंधन ने भी. यह एक या दो खिलाड़ियों का काम नहीं है. मेरे ख्याल से यह आधुनिक क्रिकेट की सबसे बड़ी त्रासदियों में से एक है.’

बेदी ने कहा कि युवाओं को सही संदेश देने की जरूरत है. उन्होंने कहा, ‘कड़ी सजा की कोई सीमा नहीं होनी चाहिये. हम युवाओ को गुमराह करते हैं. हर कीमत पर जीतने का रवैया गलत है. जीतना अहम है, लेकिन सही तरीके से जीतने का संदेश देना चाहिये.’ भारत के पूर्व क्रिकेटर अजय जडेजा ने कहा कि आईसीसी को देखना है कि खेल किस दिशा में जा रहा है. उन्होंने कहा, ‘यदि कोई गेंद को चकता रहा है तो उसमें बदलाव भी कर रहा है. अभी देखना होगा कि नियम क्या कहते हैं क्योंकि मैने घटना देखी नहीं है.’

पूर्व आस्ट्रेलियाई कप्तान क्लार्क ने कहा, धोखा – कह दो, यह बुरा सपना है पूर्व कप्तान माइकल क्लार्क ने कहा कि गेंद छेड़छाड़ प्रकरण आस्ट्रेलियाई टीम के लिये‘ बुरा सपना’ है और पूर्व क्रिकेटरों ने इसमें लिप्त खिलाड़ियों की निंदा की. आस्ट्रेलियाई टीम के पूर्व कप्तान क्लार्क ने ट्वीट किया, ‘‘ यह क्या है…. क्या मैं अभी सोकर उठा हूं. कृपया मुझे बताईये कि यह बुरा सपना है.’

नासिर हुसैन, शेन वार्न  ने भी की निंदा
इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन ने भी इस प्रकरण में अपनी प्रतिक्रिया नहीं छुपायी, उन्होंने स्काई स्पोर्ट्स न्यूज से कहा, ‘आस्ट्रेलियाई टीम की यह धोखाधड़ी करने की पूर्व नियोजित योजना थी.’ ऑस्ट्रेलिया के महान क्रिेकेटर शेन वार्न ने कहा कि जिसने भी बैनक्रोफ्ट को धोखाधड़ी करने को कहा, उसकी पहचान की जानी चाहिए. पूर्व लेग स्पिनर वार्न ने कहा, मुझे कैमरन बैनक्रोफ्ट के लिये सहानुभूति है क्योंकि मुझे नहीं लगता कि उसने यह खुद किया होगा और यह अपनी जेब मे डाला होगा.’

उन्होंने कहा, ‘किसने उसे ऐसा करने के लिये कहा? यह ढूंढना अहम है. मुझे लगता है कि हमें इसकी तह तक जाना चाहिए कि ऐसा क्यों हुआ और ऐसी क्या वजह थी.’ वार्न ने कहा, ‘आपको जिम्मेदारी लेनी होगी। आप पकड़े गये हो और आपको जिम्मेदारी लेनी होगी कि आप क्या छुपा रहे थे. आप मैच में ऐसा नहीं कर सकते.’ इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वान ने कहा कि पूरी आस्ट्रेलियाई टीम और कोच हमेशा धोखेबाज के रूप में याद रखे जायेंगे. वान ने कहा ,‘‘एक मैच का प्रतिबंध और मैच फीस का शत प्रतिशत जुर्माना स्मिथ के लिये. बेनक्रोफ्ट पर 75 प्रतिशत जुर्माना और डिमेरिट अंक. यह समय मिसाल कायम करने का था और यह कैसी सजा सुनाई है.’’

वान ने ट्विटर पर लिखा, ‘स्टीव स्मिथ, उनकी टीम और सारे प्रबंधन को स्वीकार करना होगा कि उनके करियर को जो कुछ भी हो, उन्हें खेल में धोखाधड़ी करने की कोशिश के लिये याद रखा जायेगा.’ इंग्लैंड के पूर्व बल्लेबाज केविन पीटरसन को इस बात का यकीन नहीं था कि कोच डेरेन लीमैन को इस घटना की जानकारी नहीं थी. इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वान ने कहा ,‘‘एक मैच का प्रतिबंध और मैच फीस का शत प्रतिशत जुर्माना स्मिथ के लिये. बेनक्रोफ्ट पर 75 प्रतिशत जुर्माना और डिमेरिट अंक. यह समय मिसाल कायम करने का था और यह कैसी सजा सुनाई है.’’