Home देश नेतन्याहू के दौरे से ‘स्पाइक’ डील पटरी पर, पहले भारत ने रद्द्...

नेतन्याहू के दौरे से ‘स्पाइक’ डील पटरी पर, पहले भारत ने रद्द् किया था सौदा

83
0
SHARE

इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू का भारत दौरा इजरायल की मीडिया में सुर्खियों में बना हुआ है. इस दौरे में भारत-इजरायल के बीच कई अहम समझौते भी हुए हैं. इजरायली मीडिया ने इस महत्वपूर्ण दौरे के दौरान स्पाइक टैंक सौदे पर फिर से मोहर लगने की उम्मीद जताई है. भारत, इजरायल से स्पाइक टैंक रोधी निर्देशित मिसाइल खरीदेगा. इजरायली मीडिया ने प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के हवाले से यह खबर दी है. भारत द्वारा 50 करोड़ डॉलर के इस रक्षा सौदे को रद्द कर दिए जाने के कुछ सप्ताह बाद यह बयान सामने आया है.

इजरायल मीडिया में छाया दौरा
यरूशलम पोस्ट में प्रकाशित खबर के अनुसार नेतन्याहू की भारत यात्रा से कुछ सप्ताह पहले यह सौदा रद्द कर दिया गया था, इस करार का नवीकरण एक बड़ी रणनीतिक उपलब्धि है. अखबार ने नेतन्याहू के हवाले से कहा है कि भारत इजरायल से स्पाइक टैंक रोधी निर्देशित मिसाइल खरीदेगा. नेतन्याहू ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ एक दिन बिताने के बाद यह बयान दिया है. भारत की छह दिन की यात्रा पर गए नेतन्याहू ने कहा कि करार के अंतिम मसौदे को अभी अंतिम रूप दिया जा रहा है. एक अन्य इजरायली अखबार हारेट्ज ने लिखा है कि यह सौदा फिर मेज पर लौट आया है.

इजरायल के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मीरबेन शब्बात के हवाले से अखबार ने लिखा है कि फिलहाल इस पर मौजूदा बातचीत सही दिशा में जा रही है और इसके अधिक जानकारी का खुलासा बाद में किया जाएगा. इससे पहले इजरायल की हथियार कंपनी राफेल एडवांस डिफेंस सिस्टम्स लि. ने इसी महीने इस बात की पुष्टि की थी कि भारत ने इस सौदे को रद्द कर दिया है और उसने इस फैसले पर खेद जताया है.

क्या है सौदा
कुछ समय पहले भारत और इजरायल के बीच 8000 स्पाइक मिसाइल खरीदने पर सहमति बनी थी. यह सौदा करीब 50 करोड़ डॉलर था. लेकिन पिछले दिनों राफेल की तरफ से यह जानकारी दी गई कि भारत ने आधिकारिक तौर पर इस सौदे को रद कर दिया गया है. इजरायल की स्पाइक मिसाइल का इस्तेमाल कम से कम 12 देशों की सेनाएं कर रही हैं और इसकी मारक क्षमता को इस श्रेणी में बेहतरीन माना जाता है. भारत की सरकारी कंपनी DRDO ने कहा कि वह अगले चार सालों में बेहद आधुनिक एंटी टैंक मिसाइल भारतीय सेना को देगा. भारतीय सेना स्थानीय तकनीकी पर आधारित एंटी टैंक मिसाइल के खिलाफ नहीं है, लेकिन उसकी चिंता यह है कि उसके आने में अभी चार-पांच वर्ष लग जाएंगे. साथ ही उसकी मारक क्षमता व प्रदर्शन को लेकर भी अभी कुछ कहा नहीं जा सकता.

मुंबई में उद्योगपतियों से करेंगे मुलाकात
उधर, भारत यात्रा के दौरान बेंजामिन नेतन्याहू अपनी यात्रा के पांचवें दिन आज मुंबई दौरे पर रहेंगे. इस दौरान वह नाश्ता उद्योगपतियों के साथ करेंगे, उसके बाद 26/11 के आतंकवादी हमले में मारे गये लोगों को श्रद्धांजलि देंगे तथा अन्य कार्यक्रमों के साथ ही बालीवुड के एक कार्यक्रम में भी भाग लेंगे. भारत यात्रा पर पहुंचे नेतन्याहू का सुबह का जलपान उद्योगजगत के चुनींदा प्रमुख उद्योगपतियों के साथ होगा. इनमें महिंद्रा एण्ड महिंद्रा समूह के आनंद महिंद्रा, पिरामल उद्योग समूह के अजय पिरामल, गोदरेज समूह के आदि गोरदेज और आईसीआईसीआई बैंक की प्रमुख चंदा कोचर के उपस्थित रहने की संभावना है.

इसके बाद नेतन्याहू दक्षिण मुंबई में भारत-इजरायल सम्मेलन को संबोधित करेंगे. इस सम्मेलन में महाराष्टू के मुख्यमंत्री देवेंन्द्र फडणवीस भी उपस्थित होंगे. नेतन्याहू और मुख्यमंत्री फडणवीस के बीच अलग से बैठक भी होगी जिसके बाद फडणवीस की तरफ से नेतन्याहू और उनके साथ आये प्रतिनिधिमंडल के लिये दोपहर का भोजन रखा गया है,

26/11 हमले में मारे गए लोगों को देंगे श्रद्धांजलि
नेतन्याहू आज अपने मुंबई दौरे के दौरान मुंबई में 2008 में 26/11 के आतंकवादी हमले में मारे गये लोगों को श्रद्धांजलि देंगे. इसके बाद नेतन्याहू नरीमन हाउस जायेंगे जहां वह 11 साल के मोशे हॉजबर्ग से मिलेंगे. मोशे के पिता रबी गेवरिल हॉजबर्ग और माता रिवका नरीमन हाउस पर 2008 में हुए आतंकवादी हमले में मारे गए थे. मोशे कल ही मुंबई पहुंचा है. मोशे उस स्थान पर नौ साल बाद लौटा है जहां उसका बचपन बीता था. नेतन्याहू इसके बाद ताज होटल में यहूदी समुदाय के 25 से 30 लोगों से मुलाकात करेंगे.