Home प्रदेश भाजपा विधायक कंबल चोर हैं, वितरण करके तत्काल वापस ले लेते हैं:...

भाजपा विधायक कंबल चोर हैं, वितरण करके तत्काल वापस ले लेते हैं: सत्येंद्र जैन

88
0
SHARE

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने विधानसभा में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के चार विधायकों पर कंबल चोरी करने का अरोप लगाया है. जैन के इस आरोप के बाद चारों विधायक सदन से से बाहर चले गए. विपक्ष के नेता विजेन्द्र गुप्ता द्वारा शहर में सर्दी से 44 लोगों की मौत होने पर स्पष्टीकरण मांगने पर आम आदमी पार्टी (आप) के नेता ने यह बयान दिया. उन्होंने कहा कि भाजपा विधायक पहले तो कम्बलों का वितरण करते हैं फिर तत्काल उस कम्बल को बापस ले लेते हैं. उन्होंने उन्हें कम्बल चोर की संज्ञा दी. इससे पहले भाजपा विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष के सामने कंबल लेकर प्रदर्शन किया था. वे दिल्ली में सर्दी से हुई मौतों की जांच की मांग कर रहे थे.

दिल्ली में बेघरों की मौत पर आप और भाजपा में तकरार
भाजपा ने राष्ट्रीय राजधानी में ठंड से बेघरों की कथित मौत को लेकर दिल्ली विधानसभा में सत्तारूढ़ आप को घेरने का प्रयास किया तो सरकार ने दावा किया कि शहर के रैनबसेरों में कम से कम 30 हजार लोग रह सकते हैं. दिल्ली शहरी आश्रय विकास बोर्ड (डीयूएसआईबी) के अनुसार मौजूदा व्यवस्थाओं के तहत रैनबसेरों में 21 हजार से ज्यादा लोग नहीं रह सकते. दिल्ली के शहरी विकास मंत्री सत्येंद्र जैन ने दावा किया कि रैनबसेरों में 23 हजार लोग रह रहे हैं. इनमें 7000 लोग और रह सकते हैं.
हालांकि डीयूएसआईबी का कहना है कि इस साल रैनबसेरों में रहने वाले लोगों की सर्वाधिक संख्या 13937 तक पहुंची थी.

इससे पहले नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता के नेतृत्व में भाजपा विधायकों ने आसन के पास आकर विधानसभा अध्यक्ष राम निवास गोयल से इस मुद्दे पर चर्चा की मांग की लेकिन अध्यक्ष ने उनकी मांग ठुकरा दी. लेकिन चारों भाजपा विधायकों ने अपनी मांग को लेकर कार्यवाही बाधित रखी. बाद में गुप्ता को इस विषय पर बोलने की इजाजत दी गई.

उन्होंने पिछले सप्ताह मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा किए गए एक ट्वीट का हवाला दिया जब मुख्यमंत्री ने जनवरी के पहले सप्ताह में 44 बेघर लोगों की कथित मौत को लेकर डीयूएसआईबी के सीईओ सुखबीर सिंह पर निशाना साधा था. जब भाजपा विधायकों ने बेघरों की मौत का मुद्दा उठाया तो जवाब में आप के विधायकों ने दलितों के खिलाफ अत्याचार तथा विशेष सीबीआई न्यायाधीश बी एच लोया की मौत जैसे मुद्दे उठाए.