जेटली ने चुनाव से ठीक पहले बजट पेश करने के निर्णय का किया बचाव

नई दिल्ली : विपक्षी दलों के चुनावों से पहले बजट पेश किये जाने के विरोध के बीच वित्त मंत्री अरूण जेटली ने कदम का बचाव किया और कहा कि जब वे दावा कर रहे हैं कि नोटबंदी अलोकप्रिय फैसला है तो फिर वे डर क्यों रहे हैं।

जेटली ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘ये वे राजनीतिक दल हैं जो कहते हैं कि नोटबंदी की लोकप्रियता काफी कम है। ऐसे में आखिर वे क्यों बजट से डर रहे हैं।’ उत्तर प्रदेश समेत राज्यों में चुनावों के बाद मार्च 2012 में बजट पेश किये जाने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, यह कोई परंपरा नहीं है जिसका हर समय पालन किया जाए।

जेटली ने कहा, लोकसभा चुनाव से ठीक पहले अंतरिम बजट पेश किया जाता है। किसी ने उसे नहीं रोका। यहां तक कि 2014 में बजट आम चुनाव से ठीक कुछ दिन पहले पेश किया गया। यह संवैधानिक आवश्यकता है। सरकार वित्त वर्ष के पहले दिन से कल्याणकारी तथा अन्य योजनाओं पर खर्च शुरू करने के इरादे से लंबे समय से फरवरी के अंत में बजट पेश किये जाने की परंपरा को बदली है।

सरकार ने 31 जनवरी को संसद का बजट सत्र बुलाने का फैसला किया और अगले दिन एक फरवरी को आम बजट पेश किया जाएगा। वहीं पंजाब और गोवा में चुनाव चार फरवरी को जबकि उत्तर प्रदेश समेत तीन अन्य राज्यों में उसके बाद चुनाव होंगे। कुछ राजनीतिक दल राष्ट्रपति और चुनाव आयोग से मिलकर एण्क फरवरी को बजट पेश किये जाने के निर्णय पर विरोध जताया।

जेटली ने कहा कि बजट पहले पेश करने के पीछे प्रमुख कारणों में खर्च पहले शुरू करना है क्योंकि अबतक की जो स्थिति थी, उसमें खर्च मानसून के बाद शुरू हो पाता था। उन्होंने कहा, वास्तविक व्यय मानसून के बाद आधा वर्ष बीत जाने के बजाए अप्रैल से होना चाहिए। इसी कारण हमने बजट पहले पेश करने का फैसला किया है..।

Related Post
नयी दिल्ली: दुनिया भर में 2020 तक करीब 20% संगठन दफ्तरों और अन्य जगहों पर
नयी दिल्ली: सरकार द्वारा सभी खाताधारकों से पैन का ब्योरा देने का आदेश दिए जाने
बीजिंग : भारत में पिछले साल चीनी स्मार्टफोन विनिर्माता कंपनियों ने कुल बाजार की 40
नई दिल्ली : देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया ने अपने नए
बीजिंग : विश्वविख्यात चीन की दीवार पर समय का असर भले दिखने लगा हो पर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *